Skip to main content

नोटबंदी का जिन्न एक बार फिर बाहर, बैंक अमित शाह का पैसा किसका!

bankनवम्बर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नोटबंदी की घोषणा कर रहे थे, तब किसी को अंदाजा नहीं था कि आने वाले कुछ महीनों में उन्हें किन मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा? अपने ही पैसे के लिए उन्हें अपनी जान भी देनी पड़ेगी. किसानों को अपनी नकदी फसल औने-पौने दामों में बेचनी पड़ेगी. मजदूरों को काम से हाथ धोना पड़ेगा। न्यूज़ चैनलों पर कालाधन गंगा में बहते दिखाया गया। कार्टन भरे नोट कब्रिस्तानों में फेंके गए। लोग शायद ये सब कष्ट भले भूल जाए, लेकिन नोटबंदी का जिन्न बार-बार बोतल से बाहर आ ही जाता है।
इस सन्दर्भ में अवलोकन करें:--· 
NIGAMRAJENDRA28.BLOGSPOT.COM
देश भर में 500 और 1000 के नोट बंद होने के बाद जहां एक तरफ पूरे देश में अफरा-तफरी मची हुई है वहीं दूसरी तरफ काले धन के मालिक .....


NIGAMRAJENDRA28.BLOGSPOT.COM
बैंकिंग सेवा से वंचित लोगों को इसके दायरे में लाने के इरादे से खोले गए जन-धन खाते अब खाताधारकों के लिए मुश्किलें खड....
इस बार ये जिन्न 22 जून को गुजरात में प्रकट हुआ। दरअसल, एक आरटीआई से मालूम हुआ कि अमित शाह और भाजपा नेताओं से संबध रखने वाले गुजरात के सहकारी बैंकों में 3118 करोड़ रुपए की पुरानी करेंसी के नोट नोटबंदी के समय जमा हुए, यानि नए नोट से बदले गए। अमित शाह जिस अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक के निदेशक हैं, उसमें नोटबंदी के दौरान सिर्फ पांच दिनों में लगभग 750 करोड़ रुपए के नोट जमा किए गए, जबकि राजकोट जिला सहकारी बैंक, जिसके चेयरमैन गुजरात सरकार के मंत्री जयेशभाई विट्ठलभाई रदाड़िया हैं, में 693 करोड़ रुपए के पुराने नोट जमा हुए।
कांग्रेस ने इसे एक बड़ा घोटाला करार दिया। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि नोटबंदी दरअसल गलत तरीके  से हासिल काले पैसे को सफ़ेद करने के लिए की गई थी। गौरतलब है कि धांधली की आशंका में 14 नवम्बर 2016 को देश के सभी जिला सहकारी बैंकों पर पुराने नोट लेने पर पाबंदी लगा दी गई थी। हैरान करने वाली बात यह थी कि गुजरात स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड में इस दौरान 1.11 करोड़ रुपए ही जमा हुए, जिससे धांधली का संदेह और गहरा हो जाता है। विमुद्रीकरण में कितना घोटाला हुआ है, यह तो सत्ता परिवर्तन होने पर ही उजागर हो पायेगा। अन्यथा अँधेरे में मारे गए तीर से कम नहीं। 
बहरहाल, नाबार्ड, जहां से आरटीआई के जरिए यह आंकड़े हासिल किए गए थे, ने सफाई दी कि अहमदाबाद सहकारिता बैंक में जो पैसे जमा किए गए थे, वह बैंक की क्षमता और केवाईसी मानकों के आधार पर किए गए थे। नाबार्ड का कहना है अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक के कुल 17 लाख खातों में से केवल 1.60 लाख खातों में ही नोट बदले गए थे। नाबार्ड की ओर से यह भी कहा गया कि अमित शाह जिस बैंक के निदेशक हैं, उस बैंक से अधिक महाराष्ट्र और केरल के सहकारी बैंकों में रद्द हुए नोट जमा हुए थे। लेकिन, नाबार्ड के इस दावे को कई विशेषज्ञों ने ख़ारिज कर दिया है।
शक की गुंजाइश इसलिए भी बढ़ जाती है, क्योंकि गुजरात स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक की क्षमता इन दो बैंकों से अधिक है। इसके बावजूद इन दोनों बैंकों में जमा हुए तकरीबन 1400 करोड़ के मुकाबले गुजरात स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक में सिर्फ 1.11 करोड़ रुपए मूल्य के रद्द नोट ही जमा हो पाए। सवाल यह है कि जब सरकार जनधन खातों में जमा पैसों की जांच और कार्रवाई की बात कर रही थी, तो फिर इन खातों में जमा पैसों की जांच करवाने में क्या हर्ज है।
पैसा सुरक्षित खबर ग़ायब
जो दूसरी हैरान करने वाली बात है, वो है मीडिया द्वारा इस खबर की कवरेज। आरटीआई द्वारा हासिल जानकारियों पर आधारित न्यूज एजेंसी एएनआई की इस खबर को कई बड़े मीडिया हाउस के वेबसाइट पर प्रसारित किया गया। लेकिन कुछ घंटों बाद ही उन खबरों को वहां से हटा लिया गया। इन वेबसाइट्‌स में न्यूज़-18, फर्स्टपोस्ट, टाइम्स नाउ और न्यू इंडियन एक्सप्रेस जैसी वेबसाइट्‌स के नाम शामिल हैं। इन वेबसाइट्‌स ने यह नहीं बताया कि आखिर उन्होंने इस खबर को क्यों हटाया? क्या खबर गलत थी, आरटीआई से निकली जानकारी गलत थी या फिर कोई दबाव था? जाहिर है, ये स्थिति देश में मुख्यधारा की बिकाऊ मीडिया की वास्तविक तस्वीर पेश करती है।
जहां तक इन बैंकों में जमा पैसों का सवाल है तो इस संदर्भ में यह कहा जा सकता है कि नोटबंदी काले धन पर चोट के लिए की गई थी। ज़ाहिर है, कालाधन वापस नहीं आया। कई विशेषज्ञों के अनुसार बहुत सारे नक़ली नोट, जो बाज़ार में थे, वो भी असली नोट बन कर सिस्टम में वापस आ गए। दूसरा, जब सहकारी बैंकों को पुराना नोट वापस लेने से इसलिए रोक दिया गया था क्योंकि वहां धांधली हो सकती थी, तो फिर जब किसी सहकारी बैंक ने अपनी क्षमता से अधिक पैसा लिया तो  उसकी जांच करा लेने में कौन सी बाधा आड़े आ रही है।
गौरतलब है कि नोटबंदी लागू करने का उद्देश्य आतंकवाद, नकली नोट और कालाधन पर हमला बताया गया था। लेकिन जल्द ही यह पता चल गया कि इनमें से कोई भी उद्देश्य पूरा नहीं हो सकता। क्योंकि नोटबंदी के कुछ दिनों बाद ही कश्मीर में दो आतंकी मारे गए थे, जिनके पास से दो हज़ार के नए नोट बरामद हुए थे। कालाधन और नक़ली नोटों पर सरकार ने अभी तक कोई स्पष्ट आंकड़ा पेश नहीं किया है। आरबीआई द्वारा जारी आंकड़ों में कहा गया है कि 99 फीसदी करेंसी वापस आ गई है। बहरहाल, नोटबंदी एक ऐसा फैसला रहा जिसके घोषित उद्देश्य तो पूरे नहीं हुए लेकिन नोटबंदी के दो साल बाद, ऐसा लग रहा है कि नोटबंदी के कुछ अघोषित उद्देश्य भी थे, जो शायद अब जा कर जनता के सामने आ रहे हैं।
अक्सर हर चुनाव में कालेधन पर खूब शोर मचाया जाता है, लेकिन नोटबंदी में किसी भी नेता का नाम नहीं आया। विपरीत इसके आम जनमानस को ही जरुरत के रखे रुपयों को बदलवाने के लिए कठिनाई का सामना करना पड़ा। विमुद्रीकरण से न भ्रष्टाचार, आतंकवाद और न ही कालेधन पर कोई प्रभाव पड़ा, सभी यथावत रूप से चल रहे हैं। बल्कि आम जनमानस का एक-एक पैसा सरकार की निगाह में आ गया, जबकि किसी नेता के जमा धन की कोई जानकारी नहीं। . 

Comments

AUTHOR

My photo
shannomagan
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)

Popular posts from this blog

कायस्थ कौन हैं ?

सर्वप्रथम तो ये जान लें आप सब कि ना तो मै जातिवादी हुँ और ना ही मुझे जातिवादी बनने का शौक है और ना ही कायस्थ समाज को जागृत करने मे मेरा कोई स्वार्थ छिपा है। मै कल भी एक कट्टर सनातनी था आज भी एक कट्टर सनातनी हुँ और विश्वास दिलाता हुँ सनातन धर्म के प्रति मेरी ये कट्टरता भविष्य मे भी बनी रहेगी। इन शब्दों के बावजूद भी हमे कोई जातिवादी कहे तो मै बस इतना ही कहुँगा कि कुत्तो के भौकने से हाथी रास्ता नही बदला करते। मै ‘कायस्थ समाज’ से संबंध रखता हूँ । जो मेरे मित्र इस से सर्वथा अपरिचित हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दुँ कि उत्तर भारत के बहुलांश क्षेत्रों मे कायस्थों की जबर उपस्थिति मौजूद है, हालांकि यह समाज देश के अन्य हिस्सों मे भी विद्यमान है । इनकी जनसंख्या काफी सीमित है परंतु इस वर्ग से संबन्धित सम्मानित महापुरुषों , विद्वानो, राजनेताओ , समाज सेवियों की एक लंबी फेहरिस्त मिलेगी जिन्होंने अपनी विद्वता, कर्मठता और प्रतिभा का लोहा पूरे विश्व मे मनवाया है । सम्राट अकबर के नवरत्न बीरबल से लेकर आधुनिक समय मे स्वामी विवेकानंद , राजा राम मोहन रॉय , महर्षि अरविंद ,श्रीमंत शंकर देव ,महर्षि महेश योगी, मु…

गीता को फाड़कर कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए -- दलित नेता विजय मानकर

सोशल मीडियो पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि गीता को फाड़कर कूड़ेदान में फेंक देना चाहिए। आपको बता दें कि विजय मानकर का ये बयान अली शोहराब नाम के फेसबुक पेज से शेयर किया गया है। इस वीडियो को एक दिन में ही लगभग 1 लाख लोग देख चुके हैं। इसे अब तक 6 हजार लोगों ने अपने फेसबुक वॉल पर शेयर भी किया है। वीडियो में विजय मानकर मंच से लगभग चुनौती भरे अंदाज में कह रहे हैं जो गीता युद्ध और हिंसा को धर्म बताती है उसे कचरे के डिब्बे में फेंक देना चाहिए। हालांकि ये वीडियो कब का है इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है। जनसत्ताऑनलाइन भी इसवीडियो की पुष्टी नहीं करता है। वीडियो में दिख रहा है कि अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि ‘मैं आज इस मंच से कहता हूं कि गीता को कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए। गीता कहती है कि मैंने वर्ण व्यवस्था बनाई है, गीता कहती है कि ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं हमें ब्राह्मणों की पूजा करनी चाहिए। गीता महिलाओं को कनिष्ठ मानती है, हिंसा और युद्ध को ध…

शेर सिंह राणा को भारतरत्न कब मिलेगा?

Play
-13:30





Additional Visual Settings