Skip to main content

अगर देश में महिलाएं-लड़कियां सुरक्षित होतीं तो नेताओं की बहन-बेटियां बिना सिक्योरिटी के बाहर घूम रही होतीं


आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार 
मोदी सरकार ‘’बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’’ का नारा दे रही है लेकिन उसी के कार्यकाल में भारत महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश बन गया है। यह दावा द थॉमसन रिट्यूर्स फाउंडेशन के वैश्विक सर्वे में किया गया है।
आतंकवाद से प्रभावित अफगानिस्तान और युद्धग्रस्त सीरिया क्रमश: दूसरे और तीसरे नंबर पर है। इस लिस्ट में पाकिस्तान नंबर 6 पर है, जबकि अमेरिका दसवें नंबर पर। इसी सर्वेक्षण में सात साल पहले भारत महिलाओं के लिए चौथा सबसे खतरनाक देश था। लेकिन अब वो नंबर एक पर आ गया है।
इस सर्वे के सामने आने के बाद से केंद्र की मोदी सरकार को जमकर निशाना बनाया जा रहा है। विपक्षियों का कहना है कि यह शर्मनाक है कि ‘मोदी राज’ में भारत महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश बन गया है। सर्वे में महिला सुरक्षा को लेकर भारत की स्थिति पर कलाकारों से लेकर खिलाड़ियों तक ने चिंता जताई है। देश और दुनिया से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय बेबाकी से रखने वाले भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ गौतम गंभीर ने इसे शर्मनाक बताते हुए इसपर अपना ग़ुस्सा ज़ाहिर किया है।
Day a political leader’s daughter, sister, wife or mother starts to venture out of their homes without any security cover, we will have a solution to this problem. SHAMEFUL. India most dangerous country for women, US ranks 10th in survey - CNN https://www.cnn.com/2018/06/25/health/india-dangerous-country-women-survey-intl/index.html 
उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “जिस दिन राजनेताओं की बेटी, बहन, पत्नी और मां बिना किसी सिक्योरिटी के साथ घर से बाहर निकलना शुरू कर देगीं। उस दिन हमें इस समस्या से छुटकारा मिल जाएगा। शर्मनाक.. भारत महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे असुरक्षित देश है। अमेरिका 10वें नंबर पर”।
ग़ौरतलब है कि इससे पहले भी गौतम गंभीर महिला सुरक्षा के मुद्दे पर अपनी चिंता ज़ाहिर कर चुके हैं। हिंदुस्तान टाइम्स में लिखे एक कॉलम में गौतम गंभीर ने लिखा था, आजकल बच्चों के साथ रेप की घटनाएं तकरीबन हर दिन सुनने और देखने को मिलती हैं। ऐसे में मुझे डर लगता है कि मेरी दोनों बेटियां कहीं इस शब्द का अर्थ न पूछ बैठें।
उन्होंने आगे लिखा था, दो बेटियों का पिता होने पर मुझे खुशी और गर्व है, लेकिन कई बार मैं परेशान भी होता हूं। हालांकि स्कूल में गुड और बैड टच के बारे में उन्हें बताया जाता है, लेकिन जिस तरह ये अपराध रोज़ाना हो रहे हैं, उसे देखकर विचलित भी हूं।
इस सर्वे में महिलाओं के अधिकारों पर काम करने वाले करीब 550 एक्सपर्ट्स शामिल हुए थे। इन्हें 193 देशों में महिलाओं के लिए बदतर देशों में टॉप 10 रैंक देने को कहा गया था।
भारत के सन्दर्भ में बताया गया है कि सेक्सुशल वॉयलेंस की घटनाएं बढ़ी हैं। नेशनल क्राइम ब्यूरो के अनुसार यहां रोजाना 100 से भी अधिक सेक्शुअल हैरासमेंट के केस दर्ज होते हैं।
वास्तव में आज भारत और भारत से बाहर मोदी विरोधियों ने मुहिम चला रखी है, जिसके चलते यह सब हो रहा है। उत्तर प्रदेश और बिहार में पहले कितने महिलाओं के विरुद्ध अपराध होते थे, उत्तर प्रदेश में यौन-शोषण पर तत्कालीन समाजवादी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को अपने मुख्यमन्त्री पुत्र अखिलेश यादव के कार्यकाल में हो रहे बलात्कार घटनाओं पर कहना पड़ा था, "बच्चों से गलतियाँ हो जाती हैं..." कोई शोर नहीं हुआ। इतने वर्षों से फैली गंद एकदम साफ नहीं हो सकती, इसलिए हथेली पर सरसों ज़माने वालों को संयम से काम लेना चाहिए। और जहाँ तक नेताओं की बहन-बेटियों की बात है, हमें यह भी नहीं भूलना कि "जब भी कहीं दंगे होते हैं, उसमे आम नागरिक ही मरता है, किसी नेता के परिवारजन तो क्या इनके पशु-पक्षी तक पूर्णरूप से सुरक्षित होते हैं, गौतम भाई।" इतना ही नहीं, आज़म खान की भैंस चोरी होने पर पुलिस और समस्त प्रशासन ढूंढने में लग गया, क्या आम नागरिक के साथ कभी ऐसा हुआ है? अगर कोई घटना हुई हो तो कृपया बताने का कष्ट करें, ताकि अपनी भूल को सुधार सकूँ।    
महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा साथ-साथ घरेलू काम के लिए मानव तस्करी, मजदूरी के मजबूर करना और विवाह के लिए दबाव बनाना शामिल है।
सर्वे में बताया गया कि भारत की सांस्कृतिक परम्पराओं के चलते भी महिलाएं प्रभावित हुईं हैं, जिकसी वजह से भी वह दुनिया का सबसे खतरनाक देश रहा है।

Comments

AUTHOR

My photo
shannomagan
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)

Popular posts from this blog

कायस्थ कौन हैं ?

सर्वप्रथम तो ये जान लें आप सब कि ना तो मै जातिवादी हुँ और ना ही मुझे जातिवादी बनने का शौक है और ना ही कायस्थ समाज को जागृत करने मे मेरा कोई स्वार्थ छिपा है। मै कल भी एक कट्टर सनातनी था आज भी एक कट्टर सनातनी हुँ और विश्वास दिलाता हुँ सनातन धर्म के प्रति मेरी ये कट्टरता भविष्य मे भी बनी रहेगी। इन शब्दों के बावजूद भी हमे कोई जातिवादी कहे तो मै बस इतना ही कहुँगा कि कुत्तो के भौकने से हाथी रास्ता नही बदला करते। मै ‘कायस्थ समाज’ से संबंध रखता हूँ । जो मेरे मित्र इस से सर्वथा अपरिचित हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दुँ कि उत्तर भारत के बहुलांश क्षेत्रों मे कायस्थों की जबर उपस्थिति मौजूद है, हालांकि यह समाज देश के अन्य हिस्सों मे भी विद्यमान है । इनकी जनसंख्या काफी सीमित है परंतु इस वर्ग से संबन्धित सम्मानित महापुरुषों , विद्वानो, राजनेताओ , समाज सेवियों की एक लंबी फेहरिस्त मिलेगी जिन्होंने अपनी विद्वता, कर्मठता और प्रतिभा का लोहा पूरे विश्व मे मनवाया है । सम्राट अकबर के नवरत्न बीरबल से लेकर आधुनिक समय मे स्वामी विवेकानंद , राजा राम मोहन रॉय , महर्षि अरविंद ,श्रीमंत शंकर देव ,महर्षि महेश योगी, मु…

गीता को फाड़कर कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए -- दलित नेता विजय मानकर

सोशल मीडियो पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि गीता को फाड़कर कूड़ेदान में फेंक देना चाहिए। आपको बता दें कि विजय मानकर का ये बयान अली शोहराब नाम के फेसबुक पेज से शेयर किया गया है। इस वीडियो को एक दिन में ही लगभग 1 लाख लोग देख चुके हैं। इसे अब तक 6 हजार लोगों ने अपने फेसबुक वॉल पर शेयर भी किया है। वीडियो में विजय मानकर मंच से लगभग चुनौती भरे अंदाज में कह रहे हैं जो गीता युद्ध और हिंसा को धर्म बताती है उसे कचरे के डिब्बे में फेंक देना चाहिए। हालांकि ये वीडियो कब का है इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है। जनसत्ताऑनलाइन भी इसवीडियो की पुष्टी नहीं करता है। वीडियो में दिख रहा है कि अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि ‘मैं आज इस मंच से कहता हूं कि गीता को कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए। गीता कहती है कि मैंने वर्ण व्यवस्था बनाई है, गीता कहती है कि ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं हमें ब्राह्मणों की पूजा करनी चाहिए। गीता महिलाओं को कनिष्ठ मानती है, हिंसा और युद्ध को ध…

गरुड़ शास्त्र में पराई स्त्री के साथ सम्बन्ध बनाने एवं दैनिक कर्म के परिणाम

हमारे गृहस्थ जीवन के बारे में भारतीय प्राचीन शास्त्रों बहुत से सुझाव लिखे गये है| हर काम को करने के नतीजों के बारे में बताया गया है, फिर वो चाहे अच्छे कर्म हो या बुरे, अच्छे कर्मो का नतीज़ा हमेशा ही अच्छा होता है वही बुरे कर्मों के बुरे नतीजे भी लोगो को भुगतने पड़ते है।  शास्त्रों के अनुसार किसी पराई स्त्री के साथ सम्भोग करना पाप माना जाता है, और ऐसे इंसान को सीधे नर्क में जाना पड़ता है। वही किसी स्त्री के ऊपर बुरी नज़र रखने वाले, किसी पराई स्त्री के साथ संभोग का सोचने वाले लोगो को भी नर्क में ही जगह दी जाती है।
एक समय था, जब दिल्ली के पुराना किला स्थित भैरों मंदिर में किले की दीवारों पर चित्रों के माध्यम से प्राणियों को दुष्कर्मों से दूर रहने के लिए मृत्यु उपरान्त यमलोक में दी जाने वाली यातनाओं से अवगत करवाया जाता था। लेकिन पश्चिमी सभ्यता के मानव जीवन पर हावी होने के कारण मानव जीवन से हिन्दू मान्यताएँ धूमिल ही नहीं हुईं, बल्कि आस्था पर भी आघात हुआ है।
परिवार में किसी मृत्यु उपरान्त गरुड़ पुराण पाठ किया जाता है, लेकिन मनुष्य है, इसे केवल मृतक तक ही सीमित समझ एक धार्मिक पूर्ति मात्र मान कर…