Skip to main content

‘तन्वी सेठ’ क्यों रहना चाहती हैं सादिया बेगम!

लखनऊ पासपोर्ट ऑफिस में अपने साथ भेदभाव की शिकायत करके हंगामा मचाने वाली सादिया सिद्धिकी उर्फ तन्वी सेठ के मामले का सच सामने आ चुका है। यह बात जाहिर हो चुकी है कि अपनी पहचान छिपाने के मकसद से ही उन्होंने पासपोर्ट अधिकारी विकास मिश्र को टारगेट किया। साथ ही यह सवाल भी उठ रहा है कि अपना धर्म छोड़कर मुसलमान बनने के बाद सादिया उर्फ तन्वी की ऐसी क्या मजबूरी थी कि वो अपनी मुस्लिम पहचान अपने साथ नहीं रखना चाहती थीं? दरअसल इसी के जवाब में लव जिहाद की इस्लामी साजिश का पूरा सच छिपा हुआ है। दरअसल तन्वी सेठ का केस उन तमाम गैर-मुस्लिम लड़कियों के लिए एक सबक है जो प्यार-मोहब्बत के भुलावे में आकर ऐसे मोड़ पर पहुंच जाती हैं, जहां से उनके लिए न तो आगे का रास्ता होता है और न ही पीछे जाने की कोई राह।

हिंदू पहचान, लेकिन मज़हब इस्लाम!

नोएडा में रहने वाली तन्वी की एक दोस्त ने अपनी पहचान छिपाते हुए इस बारे में कुछ अहम जानकारियां दीं। उनके मुताबिक “आईटी सेक्टर में काम करने वाले अनस सिद्धिकी और मुसलमान बन चुकी तन्वी सेठ करियर में ग्रोथ के लिए अब विदेश जाने की सोच रहे थे, लेकिन अब पासपोर्ट आड़े आ रहा था। तन्वी ने भावनाओं में बहकर शादी की थी और बिना एक बार भी सोचे-समझे अपना मज़हब और नाम सबकुछ बदलने पर रजामंदी जता दी थी। लेकिन भारत में अपने दफ्तर में वो तन्वी सेठ के नाम से ही जानी जाती रही।” दोस्त का दावा है कि तन्वी को कुछ इनसिक्योरिटी भी थी, जिसके कारण वो अपनी हिंदू पहचान को भी बनाए रखना चाहती थीं। शायद इस कारण क्योंकि विदेश जाने पर उन्हें मुसलमान होने के कारण मुश्किल होने का डर था।

ये भी है एक तरह का लव जिहाद

दरअसल कॉरपोरेट सेक्टर में काम करने वाले ज्यादार मुसलमान लड़के हिंदू लड़कियों से शादी करने के चक्कर में रहते हैं। इससे उनका दोहरा काम हो जाता है। एक तो इस्लाम की सेवा हो जाती है और दूसरे हिंदू लड़की के बहाने मॉडर्न बीवी मिल जाती है। वरना मुस्लिम लड़की से शादी करने पर उसे लेकर मॉडर्न सोसाइटी में एडजस्ट करना मुश्किल होता है। ऐसे लड़कों का आसान शिकार होती हैं वो हिंदू सहकर्मी, जो छोटे शहरों में मिडिल क्लास परिवारों से ताल्लुक रखती हैं। उन्हें लगता है कि लड़का भले ही मुसलमान है लेकिन बहुत आजाद ख्याल वाला है। इसके बाद भावनाओं में बहकर वो ऐसी गलतियां करती जाती हैं, जिनमें वापस लौटने का कोई रास्ता नहीं बचता। यही कारण है कि ऐसी लड़कियां अक्सर अपने हिंदू नाम को अपने साथ बनाए रखने की कोशिश करती हैं। कुछ दिन पहले मुंबई में एक मॉडल का मामला सामने आया था, जिसमें उसके पति ने घर से निकाल दिया था। 

आधार-निकाहनामे में तन्वी सेठ का अलग-अलग नाम दर्ज, ज़ी मीडिया के हाथ लगे अहम दस्तावेज
पासपोर्ट ऑफिसर ने अपना पक्ष मीडिया के सामने रखा,
 तो मामले ने फिर तूल पकड़ा.

आधार-निकाहनामे में तन्वी सेठ का अलग-अलग नाम दर्ज

लखनऊ पासपोर्ट केंद्र में धर्म को लेकर हुए विवाद में कई मोड़ आते जा रहे हैं. प्रत्यक्षदर्शी ने जब तन्वी सेठ के आरोपों को झूठ बताया. तो ज़ी मीडिया ने भी तहकीकात शुरू कर दी और तहकीकात के बाद जो तस्वीर सामने आई, वो हैरान करने वाली थी. ज़ी मीडिया के हाथ तन्वी सेठ से जुड़े कुछ अहम दस्तावेज लगे. इन दस्तावेजों में तन्वी का झूठ सामने आया. तन्वी सेठ के आधार कार्ड और निकाहनामे दोनों में मान अलग-अलग लिखा है. दस्तावेजों के मुताबिक, आधार कार्ड पर उनका नाम तन्वी सेठ लिखा है, वहीं निकाहनामे तन्वी सेठ की जगह उनका नाम सादिया लिखा हुआ है.
Lucknow passport dispute: Tanvi Seth recorded different names in Aadhar Card and Nikah Nama
तन्वी सेठ का निकाहनामा 
ये मामला तब फिर सुर्खियों में छाया, जब पासपोर्ट ऑफिसर ने अपना पक्ष मीडिया के सामने रखा. आरोपी पासपोर्ट कर्मचारी विकास मिश्रा ने मीडिया के सामने अपनी बात रखी, उन्होंने कहा, 'जो कागज एप्लीकेंट देते हैं. उन्हें एक पोर्टल पर अपलोड किया जाता है. इन कागजों के आधार पर फैसला लेना होता है कि पासपोर्ट दिया जाना चाहिए या नहीं'. उन्होंने कहा, 'मैंने तन्वी से केवल इतना कहा कि आप निकाहनामा में अपना नाम जो दिखा रही हैं, उसे फाइल में दिखाएं. इसके लिए उन्होंने मना कर दिया'.
आरोपी पासपोर्ट ऑफिसर विकास मिश्रा ने कहा,' कल को कोई भी शख्स किसी भी नाम से पासपोर्ट बनवा लेगा तो क्या ये देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं होगा'. आरोपी कर्मचारी ने मीडिया को बताया किउनकी तन्वी के पति से कोई बात नहीं हुई, उन्होंने कहा कि अगर मेरी कोई बात होती तो मैं उन्हें अपने अधिकारियों के पास क्यों भेजता.
Aadhar
आधार कार्ड 
Couple got passport and Transfer of accused officer after vicitim tweetउन्होंने कहा कि उन्होंने जाति और धर्म के नाम पर कोई टिप्पणी नहीं की थी, विकास कहते हैं कि उन्होंने खुद इंटरकास्ट मैरिज की है, वो जाति,धर्म में भेदभाव नहीं करते. उन्होंने बताया कि तन्वी के निकाहनामे में उनका नाम सादिया दर्ज था, जबकि दूसरे कागजात में नाम तन्वी सेठ लिखा हुआ था. ऐसे में उन्होंने तन्वी से कहा कि एक प्रार्थना पत्र लिखकर दें, ताकि नाम इंडोर्स किया जा सके. विकास ने कहा कि तन्वी इस पर राजी नहीं हुईं और बहस करने लगीं जिसके बाद उन्होंने फाइल अपने सीनियर को भेज दी.
Couple got passport and Transfer of accused officer after vicitim tweetआरोपी पासपोर्ट ऑफिसर विकास मिश्रा के मीडिया में पक्ष रखने के बाद सोशल मीडिया पर उनके सपोर्ट में हजारों लोग उतरे, जिसके बाद मामले ने फिर तूल पकड़ा. आपको बता दें, बुधवार (20 जून), उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक दंपत्ति ने पासपोर्ट ऑफिसर के खिलाफ आरोप लगाया कि उन्होंने उनका पासपोर्ट इसलिए खारिज कर दिया, क्योंकि वो दोनों अलग-अलग धर्म से है. दंपत्ति ने केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज और पीएमओ को ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है और मामले में दखलअंदाजी की मांग की है. विदेश मंत्रालय ने इस मामले पर सख्ती दिखाई है. मामला सामने आने के बाद पासपोर्ट ऑफिसर का ट्रांसफर कर दिया गया है. इसके साथ ही कार्यालय ने इस मामले पर पासपोर्ट कार्यालय से रिपोर्ट भी मांगी है और दंपत्ति को पासपोर्ट भी दे दिया गया.
पासपोर्ट ऑफिसर का ट्रांसफर कर, सरकार क्या सिद्ध करना चाहती है? क्या वह अधिकारी गलत था? क्या उचित जानकारी प्राप्त करने का किसी अधिकारी का कर्तव्य नहीं? यदि इस अधिकारी ने स्पष्टीकरण नहीं माँगा होता और किसी भी अनहोनी घटने पर सरकार ने इसी पासपोर्ट अधिकारी को सूली पर टांगने से गुरेज नहीं करती। सरकार को तन्वी से पूछना चाहिए था कि "आखिर किस कारण हिन्दू और मुस्लिम नाम रखा जा रहा है?" 
Rachna Mahendra shared a post.
17 hrs

शक्तिशाली हिन्दू योद्धा
 वीजा बनता है उसके नियम हिंदू के लिऐ जितने सरल हैं मुसलमान के लिऐ उतने ही कठिन हैं!
अगर तनवी सेठ को वाकई मे हिंदू धर्म से इतना लगाव होता तो 12 साल पहले अपना धर्मपरिवर्तन नहीं करवाकर मुसलमान नहीं बनती! या फिर आज अपना फिरसे धर्मपरिवर्तन करवाकर हिंदू बनजाती!
हमें यक मालूम है कि मुसलमानों के साथ यूरोप के देशों मे क्या सुलूक होता है उस से बचने के लिऐ ये सब नाटक हुआ है!
जब आप मुसलमान बन गई हो तो उसके दर्द भी तो झेलो! नाकि उससे बचने के लिऐ हिंदू नाम रखलो!
खैर छोड़ो हमको हमारे अधिकारी विकाश मिश्रा को इंसाफ़ चाहिये! उनके साथ जो हुआ वो बहुत गलत हुआ है! हम विकाश मिश्राजी का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे!
सभी हिंदू विकास मिश्राजी के साथ हैं!
पास्पोर्ट आवेदन पर नाम - तनवी सेठ
वोटर आईडी - तनवी अनस
आधारकार्ड - तनवी अनस सिद्दिक
Name on Capgemini badge- Tanvi Seth
निकाहनामा पर नाम - शादिया अनस सिद्दिक
मतलब इस देश में मुस्लिम से सवाल भी नहीं कर सकते जाँच अधिकारी?



@SushmaSwaraj कल अगर ये कन्वर्टेड बेगम किसी कांड में बाईचांस पकड़ी गयीं और पासपोर्ट हिंदू नाम से मिला तो हिंदू टेरर,भगवा टेरर,संघी टेरर नाम से नवाज़ा जायेगा ।। @SushmaSwaraj


कुछ तो गड़बड़ है निकाहनामे पर "सादिया अनस" पासपोर्ट पर "तन्वी सेठ" क्यों बने रहना चाहती है जरूर कुछ झोल है🤔🤔







Facebook प्रोफ़ाइल तन्वी अनस सिद्दीकी के नाम से और पासपोर्ट चाहिए तन्वी सेठ के नाम से ?? इन्हें पता है कि मुसलमानों को पूरी दुनिया आतंकवादी समझती है

Comments

AUTHOR

My photo
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)

Popular posts from this blog

कायस्थ कौन हैं ?

सर्वप्रथम तो ये जान लें आप सब कि ना तो मै जातिवादी हुँ और ना ही मुझे जातिवादी बनने का शौक है और ना ही कायस्थ समाज को जागृत करने मे मेरा कोई स्वार्थ छिपा है। मै कल भी एक कट्टर सनातनी था आज भी एक कट्टर सनातनी हुँ और विश्वास दिलाता हुँ सनातन धर्म के प्रति मेरी ये कट्टरता भविष्य मे भी बनी रहेगी। इन शब्दों के बावजूद भी हमे कोई जातिवादी कहे तो मै बस इतना ही कहुँगा कि कुत्तो के भौकने से हाथी रास्ता नही बदला करते। मै ‘कायस्थ समाज’ से संबंध रखता हूँ । जो मेरे मित्र इस से सर्वथा अपरिचित हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दुँ कि उत्तर भारत के बहुलांश क्षेत्रों मे कायस्थों की जबर उपस्थिति मौजूद है, हालांकि यह समाज देश के अन्य हिस्सों मे भी विद्यमान है । इनकी जनसंख्या काफी सीमित है परंतु इस वर्ग से संबन्धित सम्मानित महापुरुषों , विद्वानो, राजनेताओ , समाज सेवियों की एक लंबी फेहरिस्त मिलेगी जिन्होंने अपनी विद्वता, कर्मठता और प्रतिभा का लोहा पूरे विश्व मे मनवाया है । सम्राट अकबर के नवरत्न बीरबल से लेकर आधुनिक समय मे स्वामी विवेकानंद , राजा राम मोहन रॉय , महर्षि अरविंद ,श्रीमंत शंकर देव ,महर्षि महेश योगी, मु…

गीता को फाड़कर कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए -- दलित नेता विजय मानकर

सोशल मीडियो पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि गीता को फाड़कर कूड़ेदान में फेंक देना चाहिए। आपको बता दें कि विजय मानकर का ये बयान अली शोहराब नाम के फेसबुक पेज से शेयर किया गया है। इस वीडियो को एक दिन में ही लगभग 1 लाख लोग देख चुके हैं। इसे अब तक 6 हजार लोगों ने अपने फेसबुक वॉल पर शेयर भी किया है। वीडियो में विजय मानकर मंच से लगभग चुनौती भरे अंदाज में कह रहे हैं जो गीता युद्ध और हिंसा को धर्म बताती है उसे कचरे के डिब्बे में फेंक देना चाहिए। हालांकि ये वीडियो कब का है इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है। जनसत्ताऑनलाइन भी इसवीडियो की पुष्टी नहीं करता है। वीडियो में दिख रहा है कि अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि ‘मैं आज इस मंच से कहता हूं कि गीता को कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए। गीता कहती है कि मैंने वर्ण व्यवस्था बनाई है, गीता कहती है कि ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं हमें ब्राह्मणों की पूजा करनी चाहिए। गीता महिलाओं को कनिष्ठ मानती है, हिंसा और युद्ध को ध…

गरुड़ शास्त्र में पराई स्त्री के साथ सम्बन्ध बनाने एवं दैनिक कर्म के परिणाम

हमारे गृहस्थ जीवन के बारे में भारतीय प्राचीन शास्त्रों बहुत से सुझाव लिखे गये है| हर काम को करने के नतीजों के बारे में बताया गया है, फिर वो चाहे अच्छे कर्म हो या बुरे, अच्छे कर्मो का नतीज़ा हमेशा ही अच्छा होता है वही बुरे कर्मों के बुरे नतीजे भी लोगो को भुगतने पड़ते है।  शास्त्रों के अनुसार किसी पराई स्त्री के साथ सम्भोग करना पाप माना जाता है, और ऐसे इंसान को सीधे नर्क में जाना पड़ता है। वही किसी स्त्री के ऊपर बुरी नज़र रखने वाले, किसी पराई स्त्री के साथ संभोग का सोचने वाले लोगो को भी नर्क में ही जगह दी जाती है।
एक समय था, जब दिल्ली के पुराना किला स्थित भैरों मंदिर में किले की दीवारों पर चित्रों के माध्यम से प्राणियों को दुष्कर्मों से दूर रहने के लिए मृत्यु उपरान्त यमलोक में दी जाने वाली यातनाओं से अवगत करवाया जाता था। लेकिन पश्चिमी सभ्यता के मानव जीवन पर हावी होने के कारण मानव जीवन से हिन्दू मान्यताएँ धूमिल ही नहीं हुईं, बल्कि आस्था पर भी आघात हुआ है।
परिवार में किसी मृत्यु उपरान्त गरुड़ पुराण पाठ किया जाता है, लेकिन मनुष्य है, इसे केवल मृतक तक ही सीमित समझ एक धार्मिक पूर्ति मात्र मान कर…