Skip to main content

मणिशंकर अय्यर ने फिर से PM मोदी को लेकर दिया विवादित बयान, कुत्ते वाले कमेंट को किया याद

मणिशंकर अय्यर ने फिर से PM मोदी को लेकर दिया विवादित बयान, कुत्ते वाले कमेंट को किया यादकांग्रेस के नेता मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर एक बार फिर से विवादित बयान दिया है. अक्सर भाजपा और पीएम मोदी को लेकर तीखे बयान देने वाले मणिशंकर अय्यर के इस बयान पर भी बवाल मचना तय है. इससे पहले उन्होंने गुजरात चुनाव के समय भी पीएम के खिलाफ अभद्र शब्द इस्तेमाल किए थे. इसके बाद पीएम मोदी ने उनके शब्दों को ही पूरे गुजरात चुनाव के दौरान प्रचार में इस्तेमाल किया था.
अब मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2002 के गुजरात दंगाें को लेकर दिए गए बयान को याद किया है. मणिशंकर अय्यर ने कहा, मैंने नहीं सोचा था कि 2014 से एक सीएम जो मुसलमानों को पिल्ला समझता है, वह पीएम बनेगा. जब उनसे पूछा गया कि आपको उस घटना का दुख है तो उन्होंने कहा था कि एक पिल्ला भी गाड़ी के नीचे आ जाए तो दिल में चोट लगती है.View image on Twitter

View image on Twitter

Maine nahi socha tha 2014 ke pehle ki ek CM jo Musalmanon ko pilley(puppies) samajhta hai,jab poocha gaya ki aapko dukh hai kya ki itne Musalmanon ko jaan ki kurbaani deni padi 2002 mein,unhone kaha 'ek pilla bhi gaadi ke neeche aa jaaye to dil mein kuch chot lagta hai': MS Aiyar
मैंने सोचा कि जिस आदमी ने ऐसा कहा, जो दंगों के 24 दिन तक मुस्लिमों के कैंप में नहीं गया. अहमदाबाद मस्जिद उस दिन पहुंचा जब पीएम वाजपेयी आए. उस दिन जाना मजबूरी थी. मैंने सोचा ही नहीं था कि ऐसा व्यक्ति देश का प्रधानमंत्री बन सकता है.
अवलोकन करिए:--· 

NIGAMRAJENDRA28.BLOGSPOT.IN
भारतीय मानसिकता भी क्या मानसिकता है समझ नहीं आता? हमारे छद्दम धर्म-निरपेक्ष नेता भी अपने मीडिया सहयोगियों से साठग....


NIGAMRAJENDRA28.BLOGSPOT.COM
प्रधानमंत्री एक ऐसा पद होता है जहां पहुँच कर कोई भी व्यक्ति फिर से चुने जाने की जुगत बिठाने के साथ एक और फिक्र में घ.....



NIGAMRAJENDRA28.BLOGSPOT.COM
राहुलजी इस सम्पर्क पर कब चुप्पी तोड़ोगे? आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार राहुल गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधि...
वीडियो देखिए 
https://www.facebook.com/govind.maheshwari.357/videos/1654609771318469/
NIGAMRAJENDRA28.BLOGSPOT.COM
गुजरात के पूर्व पुलिस महानिरीक्षक डी.जी. वंजारा ने मंगलवार (5 जून) को एक विशेष अदालत में कहा कि इशरत जहां फर्जी मुठभे....
ये पहली बार नहीं है, जब मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी को लेकर विवादित बयान दिया है. इससे पहले वह गुजरात चुनाव में उनके खिलाफ टिप्पणी कर चुके है। 
Image may contain: 2 people, textImage may contain: 2 peopleअय्यर साहब ने कभी यह नहीं पूछा कि "गाड़ी में आग किसने लगाकर जीवित 56 रामभक्तों को किसने जलाया था?" अय्यर साहब न ही गाड़ी में आग लगाई जाती और न गोधरा काण्ड होता। फिर 2002 से पूर्व कांग्रेस राज में जो दंगे होते थे, उसकी शय पर होते थे? गोधरा काण्ड पर तिजोरी भरने वालों के विरुद्ध अय्यर साहब की आवाज़ क्यों नहीं निकलती?
इमरजेंसी में जो दंगे हुए थे, उसके लिए कौन जिम्मेदार था, तब तो समस्त विपक्ष जेलों में बंद था? देश में सबसे ज्यादा दंगे कांग्रेस के ही राज में हुए, जिसमें लाखों मुसलमानों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। इतना ही नहीं, मलियाना दंगे पर क्यों नहीं बोलते? वह तो कांग्रेस के राज में हुआ था, और उस समय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे नारायण दत्त तिवारी। वो दंगा तो गुजरात 2002 से कहीं अधिक भयानक था। आज तक पीड़ित मुसलमानों को कोई इंसाफ नहीं मिला, अदालतों के चक्कर काट रहे हैं। 
जिसे देखो 1984 दंगों की बात करता है, लेकिन महात्मा गाँधी वध उपरान्त चितपावन ब्राह्मणों के नरसंहार की कोई चर्चा तक करने को तैयार नहीं, क्यों? जो आज़ाद भारत का शायद सबसे भयंकर नरसंहार था। यदि भारत में मणिशंकर अय्यर जैसे जयचन्दी नहीं होते, मुग़ल भारत में घुस ही नहीं सकते थे, राज करना तो दूर की बात है। बरहाल, अय्यर साहब जैसे नेता, कुछ वर्ष पूर्व लिखे मेरे लेखों को सत्यापित कर रहे हैं। 

Comments

AUTHOR

My photo
shannomagan
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)

Popular posts from this blog

कायस्थ कौन हैं ?

सर्वप्रथम तो ये जान लें आप सब कि ना तो मै जातिवादी हुँ और ना ही मुझे जातिवादी बनने का शौक है और ना ही कायस्थ समाज को जागृत करने मे मेरा कोई स्वार्थ छिपा है। मै कल भी एक कट्टर सनातनी था आज भी एक कट्टर सनातनी हुँ और विश्वास दिलाता हुँ सनातन धर्म के प्रति मेरी ये कट्टरता भविष्य मे भी बनी रहेगी। इन शब्दों के बावजूद भी हमे कोई जातिवादी कहे तो मै बस इतना ही कहुँगा कि कुत्तो के भौकने से हाथी रास्ता नही बदला करते। मै ‘कायस्थ समाज’ से संबंध रखता हूँ । जो मेरे मित्र इस से सर्वथा अपरिचित हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दुँ कि उत्तर भारत के बहुलांश क्षेत्रों मे कायस्थों की जबर उपस्थिति मौजूद है, हालांकि यह समाज देश के अन्य हिस्सों मे भी विद्यमान है । इनकी जनसंख्या काफी सीमित है परंतु इस वर्ग से संबन्धित सम्मानित महापुरुषों , विद्वानो, राजनेताओ , समाज सेवियों की एक लंबी फेहरिस्त मिलेगी जिन्होंने अपनी विद्वता, कर्मठता और प्रतिभा का लोहा पूरे विश्व मे मनवाया है । सम्राट अकबर के नवरत्न बीरबल से लेकर आधुनिक समय मे स्वामी विवेकानंद , राजा राम मोहन रॉय , महर्षि अरविंद ,श्रीमंत शंकर देव ,महर्षि महेश योगी, मु…

गीता को फाड़कर कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए -- दलित नेता विजय मानकर

सोशल मीडियो पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि गीता को फाड़कर कूड़ेदान में फेंक देना चाहिए। आपको बता दें कि विजय मानकर का ये बयान अली शोहराब नाम के फेसबुक पेज से शेयर किया गया है। इस वीडियो को एक दिन में ही लगभग 1 लाख लोग देख चुके हैं। इसे अब तक 6 हजार लोगों ने अपने फेसबुक वॉल पर शेयर भी किया है। वीडियो में विजय मानकर मंच से लगभग चुनौती भरे अंदाज में कह रहे हैं जो गीता युद्ध और हिंसा को धर्म बताती है उसे कचरे के डिब्बे में फेंक देना चाहिए। हालांकि ये वीडियो कब का है इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है। जनसत्ताऑनलाइन भी इसवीडियो की पुष्टी नहीं करता है। वीडियो में दिख रहा है कि अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि ‘मैं आज इस मंच से कहता हूं कि गीता को कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए। गीता कहती है कि मैंने वर्ण व्यवस्था बनाई है, गीता कहती है कि ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं हमें ब्राह्मणों की पूजा करनी चाहिए। गीता महिलाओं को कनिष्ठ मानती है, हिंसा और युद्ध को ध…

शेर सिंह राणा को भारतरत्न कब मिलेगा?

Play
-13:30





Additional Visual Settings