Skip to main content

नेहरू जीत गए, फुटबॉल हार गया

बायीं तस्वीर 1950 से पहले की भारतीय फुटबॉल टीम की है,
 जो नंगे पांव मैदान में उतरा करती थी।
फीफा वर्ल्ड कप फुटबॉल टूर्नामेंट इन दिनों चल रहा है। अक्सर लोगों के मन में सवाल उठता है कि भारत जैसा बड़ा देश आखिर इस प्रतियोगिता में क्यों नहीं है। दरअसल इसके पीछे एक कहानी है जिसे जानबूझकर लोगों से छिपाया गया। आजादी के बाद भारत ने सिर्फ एक बार 1950 में फीफा वर्ल्ड कप के लिए क्वालीफाई किया था। उस साल ये चैंपियनशिप ब्राजील में होनी थी। भारत की टीम चुनी जा चुकी थी और खिलाड़ियों की प्रैक्टिस जोरशोर से चल रही थी, लेकिन वर्ल्ड कप शुरू होने से ठीक पहले भारतीय फुटबॉल टीम का नाम वापस ले लिया गया। फीफा वर्ल्ड कप के इतिहास का ये इकलौता मौका था जब क्वालीफाई करने के बावजूद कोई टीम प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए नहीं गई। ये वो समय था जब भारतीय फुटबॉल टीम दुनिया की सबसे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों वाली टीमों में मानी जाती थी। इस कदम से पूरी टीम बहुत निराश हुई और उसका मनोबल बुरी तरह से टूट गया। नतीजा यह हुआ कि उसके बाद भारतीय फुटबॉल टीम कभी भी वर्ल्ड कप के लिए क्वालीफाई तक नहीं कर पाई।

पैसे की कमी से टीम नहीं भेजी!

वर्ल्ड कप में टीम न भेजने का अचानक हुआ ये फैसला बेहद रहस्यमय था। तब ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) एक सरकारी संस्था हुआ करती थी। उसने इस फैसले पर कई अलग-अलग तरह की सफाइयां दीं। ब्राजील में आयोजकों को औपचारिक तौर पर बताया गया कि भारतीय टीम नाम वापस ले रही है क्योंकि हमारे पास यात्रा का खर्च उठाने लायक पैसे नहीं हैं। इस पर आयोजकों ने जवाब दिया कि वो पूरी भारतीय टीम का यात्रा और ठहरने का खर्च उठाने को तैयार हैं। लेकिन भारतीय फेडरेशन ने इस ऑफर को ठुकरा दिया। टीम भेजने का पैसा न होने की बात भारतीय मीडिया और जनता को नहीं बताई गई। क्योंकि इससे लोगों में गुस्सा भड़क जाता। लिहाजा यहां पर बताया गया कि फीफा ने खिलाड़ियों के नंगे पांव फुटबॉल खेलने पर पाबंदी लगा दी है। भारतीय टीम की प्रैक्टिस नंगे पांव खेलने की है, लिहाजा इसके विरोध में टीम नहीं भेजने का फैसला लिया गया है। तब के भारतीय फुटबॉल कैप्टन शैलेंद्र नाथ मन्ना ने इसे सरासर झूठ बताया था। दरअसल यह वो समय था जब प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और उनका परिवार शाही सुख-सुविधाओं से भरी जिंदगी जीया करता था। वो जब चाहते सरकारी खर्चे पर विदेश जाते। यहां तक कि उनके कपड़े भी धुलने के लिए स्पेशल प्लेन से विदेश भेजे जाते थे। यहां तक कि जवाहरलाल नेहरू अपनी गर्लफ्रेंड एडविना माउंटबेटन को लव लेटर भी एयर इंडिया के स्पेशल प्लेन से भेजा करते थे। माना जाता है कि वर्ल्ड कप में टीम न भेजने का फैसला भी नेहरू का ही था। वर्ल्ड कप को लेकर हुई फजीहत के बावजूद नेहरू ने कभी फुटबॉल को बढ़ावा देने की जरूरत नहीं समझी।

देश की आंखों में धूल झोंका गया

1948 के लंदन ओलिंपिक की ये तस्वीर भारतीय फुटबॉल टीम के खिलाड़ियों की है, जिनके पैरों में जूते तक नहीं थे। लेकिन उनके खेल को देखकर दुनिया हैरान रह गई थी।
टीम के कप्तान शैलेंद्र नाथ मन्ना को लोग शेलेन मन्ना के नाम से जानते थे। वो उस समय दुनिया के कुछ सबसे बेहतरीन प्लेयर्स में से एक माने जाते थे। 1953 में इंग्लैंड फुटबॉल एसोसिएशन ने मन्ना को दुनिया के टॉप-10 कप्तानों में जगह दी थी। कुछ साल बाद उन्होंने इस सार्वजनिक तौर पर लोगों को बता दिया था कि 1950 फीफा वर्ल्ड कप में भारतीय टीम नंगे पांव खेलने पर पाबंदी के कारण नहीं, बल्कि पैसे बचाने के लिए नहीं भेजी गई थी। यह स्थिति तब थी जब 1948 के ओलिंपिक में इसी टीम ने फर्स्ट राउंड के अपने मैच में फ्रांस की टीम के पसीने छुड़ा दिए थे। उस मैच में भारत के ज्यादातर खिलाड़ी नंगे पांव खेल रहे थे, जबकि कुछ ने मोजे पहने हुए थे। पूरी दुनिया ये देखकर हैरान रह गई नंगे पांव खेलने वाली उस टीम ने फ्रांस जैसी मजबूत टीम को रोमांचक मैच में 1-1 से बराबरी पर रोके रखा था। लेकिन आखिरी मिनटों में गोल से टीम हार गई थी। एक आजाद देश के तौर पर भारतीय टीम का वो पहला अंतरराष्ट्रीय मैच था। उस मैच में भारतीय टीम के खेल को देखकर हर कोई यही कह रहा था कि आगे चलकर यह टीम दुनिया की नंबर वन बनने की क्षमता रखती है। इसके बाद 1951 के एशियन गेम्स में भारतीय टीम ने गोल्ड मेडल जीतकर पूरी दुनिया को चौंका दिया।

नेहरू जीत गए, फुटबॉल हार गया

फुटबॉल टीम का वर्ल्ड कप में न जाना एक सरकार के तौर पर नेहरू की बड़ी विफलताओं में से एक माना जाता है। उन्होंने टीम का हौसला बढ़ाने को कम जरूरी माना और अपनी निजी सुख-सुविधाओं को ज्यादा अहमियत दी। नेहरू की इन करतूतों को उनकी पार्टी शायद आने वाली पीढ़ियों से छिपाना चाहती थी, इसी मकसद से देश में बाद के दौर में बने तमाम फुटबॉल स्टेडियमों के नाम नेहरू के नाम पर रख दिए गए। यहां तक कि 1982 में नेहरू कप फुटबॉल टूर्नामेंट शुरू किया गया। मानो जवाहरलाल नेहरू देश के कोई महान फुटबॉल प्लेयर रहे हों। आज शैलेंद्र नाथ मन्ना को कोई नहीं जानता, जो शायद किसी दूसरे देश में पैदा हुए होते तो उनकी गिनती दुनिया के महानतम फुटबॉलरों में होती।

Comments

AUTHOR

My photo
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)

Popular posts from this blog

कायस्थ कौन हैं ?

सर्वप्रथम तो ये जान लें आप सब कि ना तो मै जातिवादी हुँ और ना ही मुझे जातिवादी बनने का शौक है और ना ही कायस्थ समाज को जागृत करने मे मेरा कोई स्वार्थ छिपा है। मै कल भी एक कट्टर सनातनी था आज भी एक कट्टर सनातनी हुँ और विश्वास दिलाता हुँ सनातन धर्म के प्रति मेरी ये कट्टरता भविष्य मे भी बनी रहेगी। इन शब्दों के बावजूद भी हमे कोई जातिवादी कहे तो मै बस इतना ही कहुँगा कि कुत्तो के भौकने से हाथी रास्ता नही बदला करते। मै ‘कायस्थ समाज’ से संबंध रखता हूँ । जो मेरे मित्र इस से सर्वथा अपरिचित हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दुँ कि उत्तर भारत के बहुलांश क्षेत्रों मे कायस्थों की जबर उपस्थिति मौजूद है, हालांकि यह समाज देश के अन्य हिस्सों मे भी विद्यमान है । इनकी जनसंख्या काफी सीमित है परंतु इस वर्ग से संबन्धित सम्मानित महापुरुषों , विद्वानो, राजनेताओ , समाज सेवियों की एक लंबी फेहरिस्त मिलेगी जिन्होंने अपनी विद्वता, कर्मठता और प्रतिभा का लोहा पूरे विश्व मे मनवाया है । सम्राट अकबर के नवरत्न बीरबल से लेकर आधुनिक समय मे स्वामी विवेकानंद , राजा राम मोहन रॉय , महर्षि अरविंद ,श्रीमंत शंकर देव ,महर्षि महेश योगी, मु…

गीता को फाड़कर कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए -- दलित नेता विजय मानकर

सोशल मीडियो पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि गीता को फाड़कर कूड़ेदान में फेंक देना चाहिए। आपको बता दें कि विजय मानकर का ये बयान अली शोहराब नाम के फेसबुक पेज से शेयर किया गया है। इस वीडियो को एक दिन में ही लगभग 1 लाख लोग देख चुके हैं। इसे अब तक 6 हजार लोगों ने अपने फेसबुक वॉल पर शेयर भी किया है। वीडियो में विजय मानकर मंच से लगभग चुनौती भरे अंदाज में कह रहे हैं जो गीता युद्ध और हिंसा को धर्म बताती है उसे कचरे के डिब्बे में फेंक देना चाहिए। हालांकि ये वीडियो कब का है इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है। जनसत्ताऑनलाइन भी इसवीडियो की पुष्टी नहीं करता है। वीडियो में दिख रहा है कि अंबेकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट विजय मानकर कह रहे हैं कि ‘मैं आज इस मंच से कहता हूं कि गीता को कचरे की पेटी में फेंक देना चाहिए। गीता कहती है कि मैंने वर्ण व्यवस्था बनाई है, गीता कहती है कि ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं हमें ब्राह्मणों की पूजा करनी चाहिए। गीता महिलाओं को कनिष्ठ मानती है, हिंसा और युद्ध को ध…

गरुड़ शास्त्र में पराई स्त्री के साथ सम्बन्ध बनाने एवं दैनिक कर्म के परिणाम

हमारे गृहस्थ जीवन के बारे में भारतीय प्राचीन शास्त्रों बहुत से सुझाव लिखे गये है| हर काम को करने के नतीजों के बारे में बताया गया है, फिर वो चाहे अच्छे कर्म हो या बुरे, अच्छे कर्मो का नतीज़ा हमेशा ही अच्छा होता है वही बुरे कर्मों के बुरे नतीजे भी लोगो को भुगतने पड़ते है।  शास्त्रों के अनुसार किसी पराई स्त्री के साथ सम्भोग करना पाप माना जाता है, और ऐसे इंसान को सीधे नर्क में जाना पड़ता है। वही किसी स्त्री के ऊपर बुरी नज़र रखने वाले, किसी पराई स्त्री के साथ संभोग का सोचने वाले लोगो को भी नर्क में ही जगह दी जाती है।
एक समय था, जब दिल्ली के पुराना किला स्थित भैरों मंदिर में किले की दीवारों पर चित्रों के माध्यम से प्राणियों को दुष्कर्मों से दूर रहने के लिए मृत्यु उपरान्त यमलोक में दी जाने वाली यातनाओं से अवगत करवाया जाता था। लेकिन पश्चिमी सभ्यता के मानव जीवन पर हावी होने के कारण मानव जीवन से हिन्दू मान्यताएँ धूमिल ही नहीं हुईं, बल्कि आस्था पर भी आघात हुआ है।
परिवार में किसी मृत्यु उपरान्त गरुड़ पुराण पाठ किया जाता है, लेकिन मनुष्य है, इसे केवल मृतक तक ही सीमित समझ एक धार्मिक पूर्ति मात्र मान कर…